नये पथ पर

ऑन्लाइन वस्त्र व्यापार

ऑन्लाइन बेचना जितना आसान है, खरीदना उतना ही मुश्किल.

ऑन्लाइन खुदरा व्यापार में सबसे आगे एलेक्ट्रॉनिक्स और किताब हैं। हर सामान अच्छे से बनाया जाता है, और उसके कई कॉपी बाजार में बेचे जाते हैं। लोग अपनी राय शेयर करते हैं और दूसरे ग्राहकों को इससे सुविधा मिलती है। पर जहाँ हर सामान ही अलग हो, वहाँ यह तरीका काम नहीं आता। जहाँ रंग, आकार, डिजाइन आदि से सामान ही बदल जाता हो, वहाँ हर बिक्री छोटी-छोटी बातों से बनती और बिगड़ती है।

कपड़ों की सहज ऑन्लाइन बिक्री पर हम काम कर रहे हैं


दिल्ली दरबार

दिल्ली में कई दशकों के शासन से जुड़े परिवारों की गोष्ठी ही दिल्ली दरबार है। कौशल में ये भले ही मंदे हों, पर भाई-भतीजावाद और खाने-खिलाने में इनकी महारत है। देश और देश वासियों को लूटकर पले-भले इस पीढ़ी को सोशल मीडिया से बड़ा झटका लगा है। इनके सारे पुराने काले चिठ्ठे बाहर निकाले जा रहे हैं।

हम लोग एक ऐसे सोशल नेटवर्क पर काम कर रहे हैं जो इनके संबंधों को उजागर कर सके

व्यक्ति एक, विचार अनेक


My Thoughts

Written in English, it contains posts ranging from politics to science, technology to spirituality.

मेरे विचार

हिन्दी में लिखे हुये इस ब्लौग में राजनीति, विज्ञान आदि विषय से संबंधित लेख हैं।

भारतीय संगीत

हिन्दी में लिखे इस ब्लौग में गीत व उनकी जानकारी और संगीत संबंधित अन्य लेख हैं।

अब तक का सफर


  • सौरभ भारती

    ये मैं हूँ। नवोदय विद्यालय और आईआईआईटी खड़्गपुर का पूर्व छात्र। विज्ञान और तकनीक के अलावा संगीत, आध्यात्म और राजनीति में रूचि।

  • शिक्षा

    संत माइकल स्कूल से चौथी तक की शिक्षा। नवोदय विद्यालय खगड़िया से १९९४ में जुड़े और १९९९ में मैट्रिक। डीएवी रांची से एग्यारवीं और बारहवीं की पढ़ाई।

  • आईआईटी खड़्गपुर

    २००१ में दाखिला लिया। क्म्प्यूटर साइंस की पढ़ाई की। पटेल हॉल के निवासी। २००५ स्नातक।

  • इंफोसिस लैब्स

    सोआ टीम से शुरुआत की। फिर वेब २.०, सोशल मीडिया, वेब एक्सेबिलिटी जैसे तकनीक पर काम किया. लगभग ९ साल।

  • करीबी

    बड़ा भाई, स्वराज।